समय की मांग है कि देश में ऐसी शिक्षा व्यवस्था हो, जिसमें आध्यात्मिकता तथा भारतीयता का समावेश हो

0
1185

Kaptan Singh Solanki newचंडीगढ़, 27 नवंबर– समय की मांग है कि देश में ऐसी शिक्षा व्यवस्था हो, जिसमें आध्यात्मिकता तथा भारतीयता का समावेश हो ताकि भारत की समृद्ध परंपराओं और आधुनिकता के सम्मिश्रण युक्त शिक्षा से इक्सीसवीं सदी की चुनौतियों से निपटा जा सके।Recent News
हरियाणा के राज्यपाल एवं विश्वविद्यालय के कुलाधिपति प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी ने आज भक्त फूल सिंह महिला विश्वविद्यालय, खानपुर कलां के छठे युवा महोत्सव का उद्घाटन करते हुए युवाओं का यह आह्वान किया। राज्यपाल प्रो. कप्तान ङ्क्षसह सोलंकी ने अपने उद्घाटन भाषण में विश्वविद्यालय की छात्राओं को अच्छे मनुष्य, अच्छे नागरिक, आदर्श नारी बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि आज के दौर में विधार्थियों विशेष रूप से छात्राओं को समग्र शिक्षा की जरूरत है, जिसमें मन, शरीर, बुद्धि तथा आत्मा का समग्र विकास हो।
राज्यपाल, हरियाणा ने कहा कि जीवन में अर्थ, शक्ति तथा ज्ञान प्राप्ति के लिए क्रमश: मां लक्ष्मी, मां दुर्गा तथा मां सरस्वती की आराधना करनी होती है। उनका कहना था कि भारत राष्ट्र में नारी-सम्मान की समृद्ध परंपरा रही है। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही अनुकरणीय है कि प्रदेश के ग्रामीण अंचल में ऐसे आधुनिक शिक्षण संस्थान की स्थापना की गई जिससे ग्रामीण परिवेश की छात्राएं शैक्षणिक रूप से लाभान्वित हो रही हैं। उन्होंने इस संस्थान के संस्थापक भक्त फूल सिंह तथा उनकी पुत्री पद्मश्री बहन सुभाषिणी को भाव भीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। राज्यपाल-कुलाधिपति ने कहा कि भारत राष्ट्र गांवों में वास करता है। उनका कहना था कि ग्रामीण विकास तथा सामाजिक विकास का रास्ता महिला सशक्तिकरण से संभव होगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रदेश में लिंग अनुपात विषम हो, वहां नारी शिक्षा का विशेष महत्त्व है। प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने विधार्थियों को देश का भविष्य करार देते हुए इस विश्वविद्यालय को भविष्य में और प्रगति-उन्नति का आशीर्वाद दिया।
इससे पूर्व, बीपीएस महिला विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. आशा काद्यान ने स्वागत भाषण दिया। प्रो. आशा काद्यान ने इस विश्वविद्यालय के इतिहास तथा वर्तमान समय तक की विकास यात्रा पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि भारतीय परंपराओं तथा आधुनिक शिक्षा का बेहतरीन समावेश इस विश्वविद्यालय में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय सामाजिक तथा सामुदायिक सरोकारों में भी विशेष योगदान देता है।
इस छठे युवा महोत्सव उद्घाटन समारोह में राज्यपाल-कुलाधिपति ने पारंपरिक दीप प्रज्ज्वलन किया। विश्वविद्यालय की छात्राओं ने विश्वविद्यालय गीत की सुंदर प्रस्तुति दी। उद्घाटन सत्र में अधिष्ठाता, छात्र कल्याण प्रो. महेश दधीच ने युवा महोत्सव संबंधित जानकारी दी। आभार प्रदर्शन कुलसचिव प्रो. कविता चक्रवर्ती ने किया। महिला विवि की छात्रा प्रियंका ने राज्यपाल का रेखाचित्र बनाकर उन्हें भेंट किया।
विश्वविद्यालय की छात्राओं ने उद्घाटन समारोह में शानदार सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। इस शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम में हरियाणा की लोक संस्कृति की सौंधी महक समाहित रही। उद्घाटन समारोह में मंच संचालन डा. श्रीलेखा चौबे ने किया।
इससे पूर्व, विवि परिसर आगमन उपरांत राज्यपाल-कुलाधिपति ने भक्त फूल सिंह की आदमकद प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। उन्होंने परिसर में पौधारोपण भी किया। सोनीपत के सांसद रमेश कौशिक, राज्यपाल की सचिव श्रीमती नीलम पी. कासनी, आईएएस, बहन कमला देवी, जिला उपायुक्त राजीव रतन, पुलिस अधीक्षक बी. सतीश बालन, समेत अन्य गणमान्यजन इस अवसर पर उपस्थित रहे। परिसर में स्कूल बैंड ने राज्यपाल-कुलाधिपति के सम्मान में बैंड प्रस्तुति दी। राज्यपाल ने इस अवसर पर हरियाणी संस्कृति को प्रतिबिंबित करती चित्र प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three + 20 =